Cervical Cancer And It's Symptoms in Hindi


गर्भाशय ग्रीवा- Cervical Cancer in Hindi

Cervical cancer and it symptoms

Cervical Cancer: सर्वाइकल कैंसर सर्विक्स (Cervix) में शुरू होने वाला Cancer है। Cervix योनि से गर्भाशय की ओर एक संकीर्ण खुलाव है। यह दुनियाभर की महिलाओं में होने वाला दूसरा सबसे आम प्रकार का Cancer है लेकिन क्योंकि यह समय के साथ विकसित होता है, इसका निवारण किया जा सकता है।

यह मध्य जीवन में अधिक होता है। आधी महिलाएं, जिनमें इस Cancer का निदान किया गया है, 35 से 55 वर्ष की आयुवर्ग से हैं। भारतीय महिलाओं में (15 से 44 वर्ष की) कैंसर से होने वाली मृत्यु में Cervical Cancer दूसरा कारण रहा है। दुर्भाग्य से, भारत जैसे विकासशील देशों में जागरूकता न होने कारण अधिकतर महिलाओं में यह Cancer अग्रिम चरणों में ही सामने आता है। हालांकि इंस्पेक्शन स्क्रीनिंग्स (Visual Inspection Screening), जो प्राथमिक स्वास्थ्य कर्मचारी भी कर सकते हैं, के आगमन से Cervical Cancer के मामले कम दर्ज किये जा रहे हैं।


सर्वाइकल (गर्भाशय ग्रीवा) कैंसर के प्रकार - Types of Cervical Cancer in Hindi

कैंसर के प्रकार की जानकारी द्वारा Doctor को यह तय करने में मदद करता है कि Cancer के उपचार में किस तकनीक या पद्धति का प्रयोग किया जाना है। Cervical Cancer के दो मुख्य प्रकार हैं :

  1. स्क्वॉमस कोशिकाओं का कैंसर (Squamous Cell Cancer)
  2. ग्रंथिकर्कटता या अडिनोकार्सिनोमा(Adenocarcinoma) इनका नाम कैंसरग्रस्त होने वाली कोशिकाओं के ऊपर रखा गया है।

स्क्वॉमस कोशिकाओं का कैंसर (Squamous Cell Cancer)
सामान्य एक्टोसर्विक्स (Ectocervix - गर्भाशय का वह भाग जो योनि की ओर जाता है) स्क्वॉमस कोशिकाओं (Squamous Cells) नामक फ्लैट और पतली कोशिकाओं से कवर होता है। सर्वाइकल कैंसर में 70% से 80% स्क्वॉमस कोशिका Cancer होता है।

ग्रंथिकर्कटता या अडिनोकार्सिनोमा (Adenocarcinoma)
अडिनोकार्सिनोमा वह Cancer है जो श्लेम (Mucus) उत्पादित करने वाली ग्रंथि कोशिकाओं में शुरू होता है। सर्विक्स में ग्रंथिल कोशिकाएं होती हैं जो सर्विक्स से गर्भ तक जाती हैं (एंडोसर्विक्स, Endocervix या सर्वाइकल कनाल, Cervical Canal)।
यह Squamous Cells के कैंसर से कम आम है लेकिन पिछले कुछ सालों में ज़्यादा आम हो गया है। सर्वाइकल कैंसरों में 10% से ज़्यादा इस प्रकार के अंतर्गत आते हैं।

अडिनोस्क्वॉमस कार्सिनोमा (Adenosquamous Carcinoma)
Adenosquamous Carcinoma वो ट्यूमर हैं जिनमें दोनों स्क्वॉमस और ग्रंथिल कैंसर कोशिकाएं होती हैं। यह एक दुर्लभ प्रकार का Cancer है। लगभग 4% Cervical Cancer इस प्रकार के होते हैं।

छोटी कोशिकाओं का कैंसर (Small Cell Cancer)
Cervical Cancer का यह प्रकार दुर्लभ है। Cervical Cancer के 3% से भी कम मामलों में यह कैंसर का निदान होता है। इस प्रकार का कैंसर जल्दी बढ़ता है।

गर्भाशय ग्रीवा का कैंसर के चरण - Stages of Cervical Cancer in Hindi

सारे टेस्ट्स हो जाने के बाद और उनके परिणाम आ जाने के बाद, यह बताया जा सकता है कि कैंसर किस स्टेज पर है। स्टेजिंग से यह पता चलता है कि कैंसर कितना फैला है। स्टेजिंग निम्न रूप में की जाती है:
स्टेज 0 (Stage 0) - Cervix में कोई कैंसरग्रस्त कोशिकाएं नहीं हैं लेकिन कुछ जैविक परिवर्तन हैं जिनसे भविष्य में कैंसर होने की सम्भावना होती है। इसे कार्सिनोमा इन सीटू (Carcinoma In Situ) या सर्वाइकल इंट्राएपिथेलियल नियोप्लाजिया (Cervical Intraepithelial Neoplasia) कहते हैं।

स्टेज 1 (Stage 1) - कैंसर Cervix में ही होता है।

स्टेज 2 (Stage 2) - कैंसर Cervix के आसपास के ऊतकों तक फ़ैल जाता है लेकिन श्रोणि की लाइनिंग (परत) या योनि के निचले भाग तक नहीं पहुंचा होता।

स्टेज 3 (Stage 3)- Cancer योनि के निचले हिस्से और/या श्रोणिक लाइनिंग तक पहुँच चुका होता है।

स्टेज 4 (Stage 4)- Cancer आँतों, मूत्राशय या अन्य अंगों, जैसे फेफड़ों तक फ़ैल जाता है।

सर्वाइकल कैंसर के लक्षण - Cervical Cancer Symptoms in Hindi
Cancer से पहले Cells में होने वाले बदलावों और Cervix के शुरूआती कैंसर आम तौर पर कोई लक्षण नहीं दिखाते। इस वजह से पैप स्मीयर (Pap Smear) और HPV टेस्ट की नियमित स्क्रीनिंग करवाते रहने से कोशिकाओं में बदलाव का पता लगाया जा सकेगा और कैंसर को बनने या बढ़ने से भी रोका जा सकता है।

बीमारी के First Stage में होने वाले संभावित लक्षण हैं - असामान्य या अनियमित योनिक रक्तस्त्राव, संभोग के वक़्त दर्द, या योनिक स्त्राव। निम्न में से कोई भी परेशानी होने पर Doctors से परामर्श करें:

  1. असामन्य रक्तस्त्राव, जैसे नियमित मासिक धर्म चक्र के बीच, यौन संभोग के दौरान, पेल्विक एग्ज़ाम (Pelvic Exam) के बाद, या मेनोपॉज़ के बाद रक्तस्त्राव।
  2. श्रोणिक दर्द जो मासिक धर्म चक्र से सम्बंधित नहीं है।
  3. Heavy और असामान्य स्त्राव जो तरल, गाढ़ा और बदबूदार हो सकता है।
  4. मूत्रत्याग करने में दर्द।
  5. यह लक्षण किसी और Health समस्या के कारण भी हो सकती हैं। कोई भी लक्षण दिखने पर Doctors से अवश्य सलाह करें।

Cervical Cancer Causes in Hindi
कैंसर असामान्य Cells के अनियंत्रित विभाजन और विकास के कारन होता है। असामान्य Cells की दो परेशानियां होती हैं:

  1. ये मरते नहीं
  2. ये विभाजित होते रहते हैं
ये असामन्य कोशिकाएं इस वजह से एकत्रित होकर ट्यूमर बन जाती हैं। सर्वाइकल कैंसर सर्विक्स में असामन्य कोशिकाओं के बन जाने से होता है।
हालांकि, निम्न लिखित कुछ कारक हैं जो Cervical Cancer होने का जोखिम बढ़ाते हैं:

  1. ह्यूमन पेपिलोमा वायरस (Human Papilloma Virus, HPV) - यह एक यौन संचारित Virus है। इसके कई प्रकार होते हैं जिनमें से कम से कम 13 Cervical Cancer का कारण बन सकते हैं।
  2. असुरक्षित यौन सम्बन्ध: Cervical Cancer का कारण बनने वाले HPV के प्रकार लगभग हर बार संक्रमित व्यक्ति के साथ यौन सम्बन्ध बनाने से फैलते हैं। जो महिलाएं एक से अधिक साथियों के साथ यौन संबंध बना चुकी हैं या जो कम उम्र में यौन सम्बन्ध बना चुकी होती हैं, उनमें Cervical Cancer के होने का जोखिम ज़्यादा होता है।
  3. धूम्रपान: धूम्रपान कई Cancer के जोखिम को बढ़ता है।
  4. कमज़ोर प्रतिरक्षा प्रणाली: कमज़ोर प्रतिरक्षा प्रणाली Cervical Cancer का कारण बन सकती है।
  5. दीर्घकालिक मानसिक तनाव: जो महिलाएं लम्बे समय तक तनाव के उच्च दर का अनुभव करतीं हैं उनमें HPV से लड़ने की Capacity कम हो जाती है।
  6. बहुत छोटी उम्र में गर्भधारण करना: जो महिलाएं 17 वर्ष की उम्र से पहले गर्भधारण कर लेती हैं उनमें Cervical Cancer के बनने का जोखिम ज़्यादा होता है (उन महिलाओं की तुलना में जो 25 वर्ष के बाद First Time गर्भधारण करती हैं)।
  7. बार बार गर्भधारण करने से: जो महिलाएं तीन से ज़्यादा बच्चों को जन्म दे चुकी हैं उनमें इस बीमारी के होने का जोखिम ज़्यादा होता है।
  8. गर्भनिरोधक गोलियां: ज़्यादा समय तक गर्भनिरोधक Medicine का प्रयोग भी कैंसर के जोखिम को बढ़ता है।
  9. अन्य यौन संचारित बीमारियां (Other Sexually Transmitted Diseases): जो महिलाएं क्लैमाइडिया (Chlamydia), सूजाक (Gonorrhea) या उपदंश (Syphilis) से संक्रमित हो चुकी हैं उनमें सर्वाइकल कैंसर का जोखिम अधिक होता है।
  10. सामाजिक-आर्थिक स्थिति (Socio-Economic Status): कई देशों में हुए अध्ययनों में पाया गया है कि जो महिलाएं वंचित इलाकों में रहती हैं उनमें Cervical Cancer होने का जोखिम ज़्यादा होता है।
सर्वाइकल (गर्भाशय ग्रीवा) कैंसर से बचाव - Prevention of Cervical Cancer in Hindi
Cervical Cancer होने के जोखिम को निम्न बातों का ध्यान रखकर कम किया जा सकता है:
सुरक्षित यौन सम्बन्ध बनायें

Cervical Cancer के अधिकतर मामले ह्यूमन पेपिलोमा वायरस (Human Papilloma Virus, HPV) से जुड़े संक्रमण से सम्बंधित होते हैं। HPV असुरक्षित यौन संबंध से फैलता है इसलिए Condom का प्रयोग करने से इस संक्रमण के होने का जोखिम कम किया जा सकता है। हालांकि यह वायरस सिर्फ योनिक संभोग से ही नहीं फैलता - यह अन्य प्रकार के यौन संपर्क जैसे गुप्तांग के त्वचा से संपर्क या Sex Toys के प्रयोग से भी हो सकता है।
आप जितनी कम उम्र में नियमित रूप से यौन सम्बन्ध बनाने शुरू कर देते हैं, आपमें इस Cancer के होने का जोखिम उतना ही ज़्यादा होता है। साथ ही, महिलाएं जिन्होंने एक से ज़्यादा पुरुषों के साथ यौन संबंध बनाये हैं, उनमें इस बीमारी के होने का जोखिम ज़्यादा होता है।

सर्वाइकल स्क्रीनिंग (Cervical Screening)
नियमित Cervical Screening करवाने से कैंसर के लक्षणों का शुरूआती Stage में ही पता लगा लिया जाता है और इससे स्थिति को समय रहते सँभालने में आसानी होती है। स्क्रीनिंग में कैंसर का पता नहीं लगाया जाता बल्कि Cervix की कोशिकाओं में बदलावों का पता लगाया जा सकता है।

ह्यूमन पेपिलोमा वायरस वैक्सीन (Human Papilloma Virus Vaccine)
Cervical Cancer और कुछ प्रकार के HPV के बीच संपर्क बहुत ही स्पष्ट है। महिलाएं HPV वैक्सीन करवाकर Cervical Cancer के जोखिम को बहुत हद तक कम कर सकती हैं।

धूम्रपान न करें
धूम्रपान का सेवन Cervical Cancer के जोखिम जो बढ़ा देता है इसलिए जितना हो सके धूम्रपान करने से बचें।

गर्भाशय ग्रीवा के कैंसर में परहेज़ - What to avoid during Cervical Cancer in Hindi?
क्या न खाएं


पशुओं से मिलने वाले खाद्य पदार्थ जिनसे सूजन हो सकती है:

  1. रेड मीट (Red Meat)
  2. डेरी उत्पाद (Dairy Products)
रिफाइंड शर्करा और हाइली-प्रोसेस्ड कार्बोहाइड्रेट्स (Carbohydrates)

  1. प्रोसेस्ड अनाज (Processed Grains)
  2. पैकेज्ड उत्पाद (Packaged Products)
  3. प्रक्षालित आटा (Bleached Flour)
ध्यान देने योग्य अन्य बातें
  1. धूम्रपान का सेवन न करें।
  2. यौन सम्बन्ध बनाते समय Condom का प्रयोग करें।
  3. निर्धारित Medicine का सेवन नियमित रूप से करें।
  4. Doctors द्वारा बताई गयी हर सलाह का पालन करें।
  5. डॉक्टर द्वारा निर्धारित समय पर चेक-अप अवश्य करवाएं।
सर्वाइकल कैंसर में क्या खाना चाहिए? - What to eat during Cervical Cancer?
पत्तेदार सब्ज़ियां जैसे:

  1. ब्रोकली
  2. फूल गोभी
  3. पत्ता गोभी
एंटीऑक्सीडेंट युक्त फल और चाय जैसे:

  1. जामुन
  2. रास्पबेरी
  3. पपीता
  4. ग्रीन टी
ओमेगा-3 फैटी एसिड युक्त खाद्य पदार्थ:

  1. मैकेरल (छोटी समुद्री मछली)
  2. सैल्मन
  3. कॉड मछली
  4. अखरोट
  5. चिया बीज (Chia Seeds)

Medicines for Cervical Cancer in Hindi
सर्वाइकल (गर्भाशय ग्रीवा) कैंसर के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि Doctors से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना Doctors की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।
Cervical Cancer And It's Symptoms in Hindi Cervical Cancer And It's Symptoms in Hindi Reviewed by Beautyhealthcares on February 26, 2020 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.